इस गाव में पांच दिनों तक पत्नी नहीं पहनती कपडे

भारत रीती-रिवाज और परंपरा से भरा हुआ देश है। हमारे देश के अलग-अलग राज्यों में अलग-अलग परम्परा है। कही सभी भाई एक ही लड़की से शादीकरते है तो कही सुहागरात में पति और पत्नी अलग अलग सोते है। ऐसी ही एक प्रथा चल रही है हिमाचल प्रदेश के मणिकर्ण घाटी में पीणी गांव में। एकहिंदी वेबसाइट के अनुसार इस गांव में पांच दिनों तक पत्नी निर्वस्त्र रहती हैं।

इन 5 दिनों में पति पत्नी एक दूसरे से बात और मजाक तक नही करते है। 5 दिन के समय में गांव का कोई भी पुरुष शराब तक नही पिता है। सदियों सेचली आ रही इस प्रथा को आज भी लोग मानते है और उसका पूरी इमानदारी से पालन भी करते है। सावन के माह के इन पांच दिनों में पति पत्नी कोएक दूसरे से दूर रहना होता है और इसे तबाही की वजह से जोड़कर देखा जाता है।

इन पांच दिनों में महिलाए कपड़ों की बजाए ऊन से बने पट्टू ही ओढती है। इस परंपरा के पीछे भी एक कहानी है ऐसा माना जाता है कि लाहुआ घोंड देवताजब पीणी पहुंचे थे तो उस दौरान राक्षसों का आतंक था। भादो संक्रांति को यहां काला महीना कहा जाता है और इस दिन देवता ने पीणी में पांव रखते हीराक्षसों का नाश किया था। उसके बाद से ही इस रिवाज की शुरुवात हुई और अब तक चली आ रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »