कढ़ी पकौड़ा रेसिपी – Kadhi Pakora Recipe

कढ़ी पकौड़ा रेसिपी

जब कभी कुछ अलग खाने को मन करता है तो हम कढ़ी भी बना सकतें हैं. कढ़ी कई प्रकार की होती है.लेकिन पकौड़ा की कढ़ी प्रमुख है. यह उत्तर भारत में बनाई जाती है. तो चलिए हम बनातें हैं बेसन कढ़ी पकौड़ा इसे आप रोटी, नान या चावल के साथ खा सकते हैं |

आवश्यक सामग्री –

  • बेसन – 200 ग्राम
  • खट्टा दही – 400 ग्राम
  • तेल —1 स्पून
  • हींग —1-2 पिन्च
  • जीरा — आधा चम्मच
  • मैथी के दाने — आधा चम्मच
  • हल्दी पाउडर — आधा चम्मच.
  • लाल मिर्च पाउडर — एक चौथाई छोटी चम्मच .
  • नमक — स्वादानुसार
  • हरी मिर्च — 2 या 3 बारीक कटी हुई
  • हरा धनियाँ — बारीक कटा हुआ .
  • तेल -पकौड़िया  तलने के लिये

विधि –
कढ़ी बनाने के लिये सबसे पहले बेसन को हम किसी बड़े बर्तन में छान कर निकाल लीजिये, पानी की सहायता से बेसन का गाढ़ा घोल बना लीजिये. बेसन के घोल को अच्छी तरह से फैंट लीजिये. फैंटे गये घोल को दो बराबर भागों में बाँट लीजिये.

पकौड़ियों के लिये :-
कढा़ई में तेल डाल कर गेस पर गरम कीजिये. जब तेल गरम हो जाए तो बेसन के एक भाग की पकौड़ियाँ बना लीजिये, एक बार में 5 -6 या जितनी पकोड़ियां आसानी से तेल में डाली जा सके डालिये फिर इसे डीप फ्राई कर लीजिये इसी तरह सारे बेसन की पकौड़ियां बना लीजिये.

कढ़ी के घोल के लिये :-
अब दही को मथकर एक बर्तन में निकालिये, बचे हुए बेसन को फैंटे हुए दही में मिलाएं ,इसमें थोड़ा सा पानी मिला दीजिये. कढ़ाई में 1 टेबल स्पून तेल छोड़ कर, सारा तेल निकाल दीजिये,अब तेल को गरम कीजिये,

गरम तेल में हींग, मैंथी और जीरा डाल दीजिये, जीरा ब्राउन हो जाने पर, हल्दी पाउडर, लाल मिर्च पाउडर और हरी मिर्च डाल दीजिये, मसालें में दही बेसन का घोल डाल कर, घोल को एक चमचे से तब तक चलाते रहें, घोल को गाड़ा होने दें और उबाल आने दें घोल में उबाल आने के बाद, पकौड़ियाँ डाल दीजिये और चमचे से चलाते जाए |

कढ़ी में फिर से उबाल आने पर, उसमें नमक डाल कर मिला दीजिये, चमचे से कढ़ी को लगातार चलाना बन्द कर दीजिये. कढ़ी को 12-15 मिनिट तक धीमी आग पर पकने दीजिये, लेकिन 2-3 मिनिट बाद चलाते अवश्य रहिये. आप देखेंगे कि कढ़ी के ऊपर किनारों की ओर बेसन की मलाई आ रही है. तो लीजिये आपकी पकोड़े की कढ़ी तैयार है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »