रात को लाइट बंद कर के सोना चाहिए या नहीं -Harmful effects of sleeping under light

रात का समय यानिकि सोने का समय दिन भर काम करने के बाद थके हारे अपने बिस्तर पर आते है तो हमारे मन में एक ही बात आती है बस है चैन से सोना है और सुबह टाइम से उठना है ताकि हम चैन से सोना है और सुबह टाइम से उठना हैताकि हम अगले दिन के सारे कामो को फ्रेश मूड़ से पूरा कर सके लेकिन कई लोगो को रात को भी लाइट ू करके सोने की आदत होती है क्या आप जानते है की अगर आप रात को लाइट ऑन करके सोते है तो ये आपके लिए बड़ी मुसीबतो हो सकती है जब भी हम लाइट ऑन करते है तो ज्यादातर अँधेरे को अपने से दूर रखते है लेकिन रात को सोते समय आप अगर अँधेरे अपने को अपने आपसेदूर रखने के लिए लाइट्स का सहारा लेते है तो ये आपके शरीर के अंदर बीमारियों को ज्यादा न्योता दे सकता है आइये जानते है कैसे
आर्टिफिशन लाइट कुछ ऐसी चीजों के साथ मिलकर बनाई जाती है जिन्हे अगर हम समय सीमा के साथ चलाते है तो ये हमारी बॉडी पर कुछ ज्यादा इफेक्ट नहीं देती है अब आप सोच रहे होंगे ऐसा कैसे जब भी हम शाम के समय या दिन के समय लाइट का इस्तेमाल करते है या फिर अपने रूम्स के अंदर हाफिस के अंदर लाइट जलते है तो हमारी बॉडी में कोई न कोई मूमेंट होती है तो हमारी बॉडी काफी हद तक स्थिर होती है जिसकी वजह से हमारी बॉडी के अंदर वे कोशिकाए जो की कैल्शियम की बीमारी को उत्तेजित करने के लिए काफी ज्यादा वजह से ब्लड कैंसर का खतरा काफी काफी हद तक बाद जाता है इसी के साथ साथ आपने कई बार ये भी देखा होगा की जब आप बहुत ज्यादा वर्कआउट करते है ऑफिस के अंदर काम करते है और रात को चैन की नींद सोना चाहते है तो अक्सर आप रात को सोते समय अपनी आर्टिफिशन लाइट को ऑन क्र देते है  तो इसकी वजह से ये आपकी नींद के अंदर भी बाधा डालता है जिसकी वजह से न ही आपकी नींद पूरी हो पति है और कई बार नींद न पूरी होने की वजह से व्यक्ति तनाव ग्रस्त हो जाता  है यानिकि डिप्रेशन में चला जाता है इसलिए अगर इतनी भयानक बीमारियों से बचना है तो रात को आर्टिफिशन लाइट जलाकर सोने की बूटी आदत को छोड़ दीजिए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »